Monday, December 1, 2008

रिंग टोन का बाज़ार और संस्कृति

बरसों पहले मैंने एक कहानी लिखी थी ‘अजनबीपन’- दिल्ली में अकेले रहते हुए रात को टेलीफोन बूथ से अपने घर फोन करने के अनुभव पर। मुझे याद है कि एसटीडी तारों के उन उलझे हुए दिनों में बड़ी मुश्किल से फोन मिला करते थे। लेकिन जब वे मिल जाया करते तो अचानक उनकी मशीनी ध्वनि बेहद मानवीय हो जाती- लगता था, जैसे पीप पीप की वह आवाज़ मुझे दिल्ली और रांची के बीच बिछे अनगिनत उलझे तारों के रास्ते १२०० मील दूर अपने घर के ड्राइंग रूम तक ले जाती है।
आज जब रिंग टोन और कॉलर ट्यून्स की एक रंगारंग दुनिया हमारे सामने है, तब भी मुझे रात ग्यारह बजे के आसपास बजती हुई वह पीप पीप याद आती है। क्योंकि इस ध्वनि से मेरी पहचान थी, वह मेरा धागा थी जो मुझे दूसरों के साथ बांधती थी। आज वह ध्वनि मुझे नहीं मिलती, क्योंकि जब भी मैं किसी को फोन करता हूं, दूसरी तरफ कोई धुन, किसी फिल्मी गीत की कोई पंक्ति, या कोई बंदिश प्यार, इसरार, मनुहार या शृंगार बिखेरती हुई मेरी प्रतीक्षा की घड़ियों को ‘मादक’ बनाने की कोशिश कर रही होती है।
दरअसल इन दिनों मोबाइल क्रांति ने ‘रिंग टोन’ और कॉलर ट्यून्स’ के जरिए जो नई सांगीतिक क्रांति की है, उसके कई पहलुओं पर ध्यान देना ज़रूरी है। आप किसी को फोन करें और आपको कोई अच्छी सी धुन या बंदिश सुनाई पड़े, इसमें कोई बुराई नहीं लगती। यही नहीं, जो लोग फोन पर अपनी पसंदीदा धुनें लगाकर रखते हैं, उनका एक तर्क यह भी हो सकता है कि इससे उनके व्यक्तित्व का भी कुछ पता चलता है।
लेकिन क्या संगीत का यह उपयोगितावाद क्या एक सीमा के बाद खुद संगीत के साथ अन्याय नहीं करने लगता? संगीत का काम सारी कला-विधाओं की तरह एक ऐसे आनंद की सृष्टि करना है जिसके सहारे हमें अपने-आप को, अपनी दुनिया को कुछ ज्यादा समझने, कुछ ज्यादा खोजने में मदद मिलती है। क्योंकि संगीत सिर्फ ध्वनियों का संयोजन नहीं है, वह संयोजन से उत्पन्न होने वाला भाव है।
लेकिन जब हम संगीत को ‘टाइम पास’ की तरह इस्तेमाल करते हैं तो उसका मूल तत्त्व जैसे खो जाता है। किसी फोन कॉल पर किसी बड़े उस्ताद की पांच सेकेंड से लेकर पंद्रह या तीस सेकेंड तक चलने वाली बंदिश जब तक आपकी पकड़ में आती है, ठीक उसी वक्त कोई आवाज इस बंदिश का गला घोंट देती है। आप शिकायत नहीं कर सकते, क्योंकि आपने संगीत सुनने के लिए नहीं, बात करने के लिए किसी को फोन किया है। संगीत तो बस उस इंतज़ार के लिए बज रहा है जो आपका फोन उठाए जाने तक आपको करना है। आप इस समय जम्हाई लें या बंदिश सुनें, किसी को फर्क नहीं पड़ता है। अलबत्ता बंदिश को ज़रूर फर्क पडता है, क्योंकि पांच बार उसे पांच-दस या बीस-तीस सेकेंड तक आप सुन चुके हैं और उसका जादू जा चुका है। छठी बार वह पूरी बंदिश सुनने भी आप बैठें तो उसका अनूठापन आपके लिए एक व्यतीत अनुभव है, क्योंकि आपको मालूम है कि इसे तो आपने अपने किसी दोस्त के मोबाइल पर सुन रखा है।
असल में हर फोन कॉल सिर्फ गपशप के लिए नहीं किया जाता। बल्कि सिर्फ गपशप जैसी कोई चीज नहीं होती- कोई न कोई सरोकार उस गपशप की प्रेरणा बनता है, कोई न कोई संवाद इसके बीच आता है, सुख या दुख के कुछ अंतराल होते हैं। जाहिर है, संगीत की कोई धुन या बंदिश इस संवाद में बाधा बनती है। आप किसी अफसोस या दुख की कोई खबर साझा करने बैठे हैं और आपको फोन पर कोई भैरवी या ठुमरी या चालू फिल्मी गाना सुनने को मिल रहा है तो आपको पता चले या नहीं, कहीं न कहीं, यह आपके दुख का उपहास भी है। यही बात सुखद खबरों के साथ कही जा सकती है।

संस्कृति एक बहुत बड़ी चीज है। उसे आप काट कर प्लेटों में परोस नहीं सकते, उसे टुकड़ा-टुकड़ा कर पैक नहीं कर सकते। लेकिन बाजा़र यही करने की कोशिश कर रहा है। वह मोत्सार्ट, बाख, रविशंकर, हरिप्रसाद चौरसिया और उस्ताद बिस्मिल्ला खां का जादू छीन कर उसे अपनी डिबिया में बंद कर रहा है और बेच रहा है। खरीदने वालों को भी संस्कृति का यह इत्र रास आ रहा है, क्योंकि इसके जरिए वह बता पा रहे हैं कि उनका नाता बड़ी और कलात्मक अभिव्यक्तियों से भी है।

यही नहीं, हर ध्वनि का अपना मतलब होता है, हर मुद्रा का अपना अर्थ। दरवाजे पर दस्तक देने की जगह कोई गाना गाने लगे तो इसे उसका कला प्रेम नहीं, उसकी सनक मानेंगे। ध्वनियों के सहारे हम हंसी को भी समझते हैं, रुलाई को भी। अगर हवा के बहने और पानी के गिरने की ध्वनियां किन्हीं दूसरे तरीकों से हम तक पहुंचने लगें तो समझिए कि कुदरत में कोई अनहोनी हुई है- या तो कोई भयावह तूफ़ान हमारे रास्ते में है या कोई विराट बाढ़ हमें लीलने को आ रही है। क्या मोबाइल क्रांति ने हमारी ध्वनि-संवेदना नहीं छीन ली है, वरना हम एक आ रहे तूफ़ान को पहचानने में इतने असमर्थ क्यों होते?

7 comments:

Unknown said...

ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है, बहुत-बहुत शुभकामनायें… एक अर्ज है,कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें, हिन्दी ब्लॉगजगत में फ़िलहाल इसकी आवश्यकता नहीं है… धन्यवाद

रचना गौड़ ’भारती’ said...

आपने बहुत अच्छा लिखा है ।
भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
मेरे द्वारा संपादित पत्रिका देखें
www.zindagilive08.blogspot.com
आर्ट के लि‌ए देखें
www.chitrasansar.blogspot.com

bijnior district said...

ब्लॉग जगत में आपका स्वागत , शुभकामनायें… ,कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें,

महुवा said...

संस्कृति एक बहुत बड़ी चीज है। उसे आप काट कर प्लेटों में परोस नहीं सकते, उसे टुकड़ा-टुकड़ा कर पैक नहीं कर सकते।
शायद हम यही भूलते जा रहे हैं....
आपको पहले भी पढ़ा है...

naresh singh said...

मानवीय भावनाओं को अभिव्यक्त करता आपका ब्लोग बहुत ही अच्छा है इसे जारी रखे । मै भी आपको वर्ड वैरिफ़िकेशन हटाने कि सलाह दूँगा ।

BOLO TO SAHI... said...

ring tone ke bahane dooor baithe apno se bat karne ki baichani ko kya hi khub pakda hai. vo bhi tar jab phone karna yani bad rahe pals rate par nazar raha karti thi.
aur ab alam yah hai ki 1 rs me bat hai ki khatm hi nahi hoti.
behad hi shiddat se aapne bayan kiya hai..

राजीव थेपड़ा ( भूतनाथ ) said...

bhayi....kuchh zur bhi likh dete to acchha hota.....!!